विराट कोहली का जीवन परिचय – Virat Kohli Biography in Hindi

Virat Kohli Biography in Hindi : आज के आर्टिकल में आपको विराट कोहली के जीवन के बारे में पता चलेगा। विराट कोहली जिनका बच्चा बच्चा फैन हैं जिन्होंने सभी के दिलो में अपनी जगह बनाई है। और हमारी आज की युवा पीढ़ी के लिए वो एक मिसाल है। विराट कोहली ने अपने जीवन में काफी मेहनत और संघर्ष किया है। आज वह भारतीय क्रिकेट टीम के महान खिलाड़ी है। आज हम सभी को इनके बारे में जानना चाहिए और इनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।

विराट कोहली का जीवन परिचय।

विराट कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 में हुआ था। इनका जन्म दिल्ली में पंजाबी परिवार में हुआ था। और विराट कोहली के पिता का नाम प्रेम है जोकि  किर्मिनल वकील थे। और उनकी माता का नाम सरोज कोहली है जो घरेलू महिला है और घर की देखभाल करती है। विराट कोहली का एक भाई और एक बहन है। विराट कोहली जब तीन साल के थे तभी से उनका पसंदीदा खिलौना बल्ला था। फिर जब वह बड़े होते गए तो उनका ध्यान क्रिकेट की ओर बढ़ता गया। फिर उनके पिता ने विराट कोहली के इंट्रेस्ट को समझ लिया और वह रोज उन्हें क्रिकेट की ट्रेनिंग के लिए ले जाया करते थे।

 

विराट कोहली की शिक्षा।

विराट कोहली की शिक्षा दिल्ली के विशाल भारती पब्लिक स्कूल में पूरी हुई थी। कहा जाता है कि विराट कोहली पढ़ाई में एक नॉर्मल विद्यार्थी रहे हैं। लेकिन उन्हें शुरू से ही क्रिकेट में दिलचस्पी रही है। जिसके चलते उनके पिता ने विराट कोहली को 9 साल की उम्र में ही क्रिकेट क्लब में उनका दाखिला करवा दिया था। जिससे विराट कोहली को क्रिकेट की पूरी तरह से जानकारी प्राप्त हो सके। विराट कोहली ने 12 वी तक ही शिक्षा हासिल की। उसके बाद उन्होंने सिर्फ अपना ध्यान क्रिकेट पर ही लगाया। उन्होंने पहला मेंच सुमित डोगरा एकेडमी में पहला मैच खेला।

 

विराट कोहली का मैच में कैरियर।

सन् 2004 तक विराट कोहली को Under 17 Delhi Cricket Team का सदस्य बना दिया गया। कोहली को जब Vijye Merchant Trophy के लिए उन्हें मैच खेलना था। जिसमे उन्हें इन चारो मैच की सीरीज में उन्होंने 450 से ज्यादा रन बनाए थे। अगले साल तो वह Vijye Merchant Trophy वह चर्चा में आ गए। फिर उसके बाद उन्हें 7 मेंचो में 757 रनों से महारत हासिल हुई और उन्होने अपना रिकॉर्ड बना दिया।

 

जुलाई 2006 में विराट कोहली को भारत की Under 19 Cricket  खिलाड़ियों में चुन लिया गया फिर उनका पहला टूर इंग्लेंड था। इस इंग्लेंड के टूर में तीन मेंचो में 105 रन हासिल किए। उस वक़्त भारत दोनों सीरीज लेकर लौटा था। फिर उसके बाद Under 19 Cricket  में पाकिस्तान के खिलाफ एक प्रदर्शन किया गया। जिसने विराट कोहली की कप्तानी को देखते हुए Under 19 Cricket में विराट कोहली को एक स्थाई खिलाड़ी के रूप में रख लिया गया।

विराट कोहली एक बेहतर बल्लेबाज है जो दाए हाथ के माध्यम गति के गेंदबाज भी है। उन्होने एक भारतीय खिलाड़ी द्वारा सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड बनाया है। उन्होने 2008 में अपने एक अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय शुरुआत की। जिसमे वह वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा बने। विराट कोहली ने 2012 में आईसीसी वनडे प्लेयर प्राप्तकर्ता बने। और 2013 में उन्होंने पहली बार वनडे बल्लेबाज में पहला स्थान हासिल किया।

 

विराट कोहली वन डे इंटरनेशनल कैरियर इस तरह रहा।

विराट कोहली ने काफी मेहनत व शिद्दत के साथ वन डे मैच में खुद को आगे बढ़ाने के लिए काफी प्रयास किए जिस दौरान वह कई बार हारे भी लेकिन उन्होने कभी हिम्मत नहीं हारी बल्कि हार से सीख लेकर। विराट कोहली ने 2011 में टेस्ट मैच में अपनी जगह बना ली। जिसके बाद उन्होने ओडीआई में अपनी 6 वे स्थान पर बैटिंग शुरू की। जिसके बाद वह 2 मेंच में हारे भी और लेकिन उसके बाद भी वह लगातार प्रयास करते गए। खुद को उन्होंने एक बेहतर खिलाड़ी साबित करते हुए। मेंच में 116 रन बनाए।

 

आपको बता दे कि विराट कोहली ने कॉमन वैल्थ बैंक सीरीज में ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका के खिलाफ 7 में से 2 मैचों में जीत हासिल की। और इस मैच के फाइनल में जाने के लिए श्रीलंका के खिलाफ 321 रनों का टारगेट था जिसमे से कोहली ने 133 रन बनाकर भारत को जीत हासिल करवा कर मैन ऑफ द मैच का खिताब जीता।

विराट कोहली को लगातार अच्छी उपलब्धियां मिलने के बाद एक के बाद एक मेंच खेलने के मौक़े भी मिले। साथ ही उन्हें साल 2012 में एशिया कप के लिए वाइस कैप्टन भी चुना गया। जिसके चलते उन्हें भारतीय टीम का कप्तान बनने की बात की गई।

कहा गया कि अगर विराट कोहली लगतर क्रिकेट में इसी तरह खेलते रहे और अच्छे प्रदर्शन हासिल करते गए तो भविष्य में उन्हें भारतीय टीम का कप्तान बना दिया जाएगा।

 

विराट कोहली का IPL में कैरियर।

आपको बता दें कि विराट कोहली ने 2008 में पहला मैच खेला था। जिसके बाद RCB  की टीम के लिए विराट कोहली को 20 लाख रुपए में खरीदा था। जिसने उन्होंने तब 13 मैचों में 165 रन बनाए थे। और 15 का एवरेज रखा गया था।

उसके बाद कोहली ने RCB को फाइनल में पहुंचाया था। उसके बाद उनकी काफी ज्यादा वाहवाही हुई थी। लेकिन फिर भी अभी तक इंडिया टीम में विराट कोहली का नाम परमानेंट नहीं हो पाया।

 

बता दें कि विराट कोहली का IPL में कुछ खास मेंच खेलने में रिकॉर्ड नहीं रहा। उन्होने मात्र 37 के एवरेज पर खेला। जिसके बाद धोनी ने टेस्ट कप्तानी से रिटायरमेंट ले लिया और फिर बाद में टेस्ट कप्तानी विराट कोहली को दे दी गई।

उसके बाद कोहली ने अपनी कप्तानी की जिम्मेदारी बखूबी निभाई और टीम को मजबूत बनाया। उसके बाद 2015 में उन्होंने 500 रन का रिकॉर्ड तोड़ा।

उसके बाद विराट कोहली का नाम हर जगह फैलने लगा और उनके खेलने का अंदाज लोगो को प्रभावित करने लगा। जिससे उनकी काफी ज्यादा वाहवाही होने लगी।

दुनिया में सिर्फ 8 क्रिकेटरों ने 20 ODI  में शतक बनाए है। जिस में विराट कोहली का नाम भी शामिल है। बता दें कि 20 ODI में सबसे तेज शतक लगाने वाले बल्लेबाज विराट कोहली है। इससे पहले सचिन तिंदुलकर का नाम था।

भारतीय क्रिकेट टीम में सबसे ज्यादा क्रिकेट में रन बनाने वाले विराट कोहली जिन्होंने 2000 3000 4000 रनों का रिकॉर्ड तोड़ा है। यहां तक की कोहली ने 5000 रनों का रिकॉर्ड इंटरनेशनल  लेवल पर रनों का रिकॉर्ड तोड़ा है। जिन्होने सभी क्रिकेटरों को मात दी है।

विराट कोहली को अवॉर्ड्स मिले।

 

*2018 में सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी विराट कोहली ने हासिल की।

*2012 पीपुल चॉइस अवॉर्ड्स अवॉर्ड फॉर फेवरेट क्रिकेट का खिताब जीता।

*2017 में पद्म श्री अवॉर्ड्स जीता।

*2012 में आईसीसी ओडीआई प्लेयर ऑफ द ईयर अवार्ड जीता।

*2013 अर्जुन अवॉर्ड फॉर क्रिकेट जीता।

*2017 सीएनएन आईबीएन इंडियन ऑफ द ईयर अवार्ड जीता।

 

सच में हमारी युवा पीढ़ी को विराट कोहली से सीख लेकर भविष्य में आगे बढ़ना चाहिए और अपने भारत देश का नाम रोशन करना चाहिए। 

नोट

दोस्तो आप सभी को विराट कोहली के जीवन परिचय को पढ़ कर कैसा लगा हमे कॉमेंट में जरूर बताएं। और इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि सभी को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *