जल बचाओ पर निबंध – Essay on save water in Hindi

जल बचाओ पर निबंध 300 शब्दों में | Essay on save water : जल ही जीवन है जल को बचाना हमारा कर्तव्य है। क्यूंकि जल हमारे जीवन में एहम भूमिका निभाता है तभी कहा जाता है जल नहीं तो कल नहीं। जल संरक्षण अधिनियम भी बनाया गया है। भारत सरकार ने जल बचाओ पर काफी कड़े कदम भी उठाए। जिससे की पानी की बचत हो सके। लेकिन फिर भी लोगो ने पानी की लापरवाही करते हुए जल को हमेशा बर्बाद ही किया है। लोगो ने जल को बचाने का कभी प्रयास ही नहीं किया। सबसे एहम जल पृथ्वी पर मानव से लेकर अन्य सभी के जीवन को बचाता है।

 

जल का महत्व।

जल का हमारी जिंदगी में बहुत ही महत्व है। जैसे जल पीने का मानव जीवन के लिए बहुत ही महत्व रखता है। साथ ही जल साफ सफाई बर्तन कपड़े धोने आदि में अधिक काम आता है।  और उसके अलावा पेड़ पोधो जीव जंतु के जीवन को भी बचाने में जल ही काम आता है। हमारी कृषि संचालन में भी जल ही काम आता है।

जल की आवश्यकता।

जल संरक्षण की आवश्यकता इसलिए जरूरी है क्योंकि पृथ्वी पर पानी की मात्रा घटती जा रही है। इसको हम सभी को नजरंदाज ना करते हुए। जल संरक्षण का ख्याल रखना चाहिए। चल बचाओ अभियान को आगे बढ़ाना चाहिए। चल की बर्बादी ना करते हुए जल को बचाने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि पृथ्वी पर जल से ही जीवन संभव है। आने वाला समय भी जल से ही संभव है।

हमें जल क्यों बचाना चाहिए।

हम सभी को जल की कीमत को समझना चाहिए। दूसरी तरफ अगर देखे तो पृथ्वी की सतह पानी से ही ढकी हुई हैं। जिसे हम नष्ट करते जा रहे। दोस्तो हम सभी को पहले खुद से जल बचाओ की शुरुआत करनी होंगी। तभी जल की बचत हो सकेगी क्यूंकि जल ही कल है।

जल बचाओ पर निबंध 400 शब्दों में | Essay on save water

Essay on save water in Hindi

हम सभी को जल की कीमत को समझना होगा। क्योंकि भारत में कई ऐसी जगह है जहां पानी की कमी है। वहां पर लोग अपना जीवन यापन सही तरीके से नही कर पा रहे हैं। उन्हें पानी के बिना काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए हमे जल को सुरक्षित रखना होगा। साथ ही जल बचाव के कड़े कदम उठाने होंगे। हम सभी को जल सुरक्षा के लिए जागरूक होना ही होगा। ताकि आने वाला भविष्य अच्छा हो। हमारी पीढ़ी को भी हम पर गर्व हो।

पानी की कमी के प्रभाव।

मनुष्य के जीवन पर पानी की कमी के प्रभाव बहुत ही खतरनाक हो सकते है। जैसे धरती पर सूखा पड़ जाना। साथ पढ़ो यह भी सबसे बड़ी दिक्कत है। जब भी पानी की कमी होती है। हमारे किसान इस समस्या से जूझ नहीं सकते और फिर वह सुसाइड तक कर लेते हैं। पानी की कमी से हमारी धरती भी सुखी पड़ जाती है। जिससे मनुष्य को जीवन बचना असंभव हो जाएगा।

जल बचाव के प्रयास इस प्रकार करना चाहिए।

जल संरक्षण का प्रयास हम सभी को मिलकर करना ही होगा। हमे अपनी कुछ गन्दी आदतों को सुधारना होगा। जैसे कभी भी पानी का नल ज्यादा तेज नहीं खोलना चाहिए। नहाते समय बाल्टी मग का ही उपयोग करना चाहिए। साथ ही पानी को फालतू में बहाना नहीं चाहिए। यह छोटी छोटी कोशिश ही हमे जल संरक्षण से बचाती है। यह प्रयास भी जल बचाओ पर काफी असर डाल सकता है।

जल प्रदूषित होने के कारण इस प्रकार है।

*आज की बढ़ती जनसंख्या ने पानी को इतना दूषित कर दिया है कि अब पानी इतना गन्दा हो गया है कि लोगों में बढ़ती बीमारियों सिर्फ दूषित जल के कारण बढ़ती जा रही है।

*लोग पानी में कूड़ा कड़कट फेज देते हैं। पानी को साफ होना ही मुश्किल हो गया है।

*बढ़ता उद्योगिकीकरण जल दूषित की सबसे बड़ी परेशानी बन चुका है। जिसके कारण जल इटना गंदा हो गया है कि जल में से भी बदबू आ रही है।

जल को इस प्रकार बचाए।

*जल बचाव के लिए सबसे पहले हमें यह अपना कर्तव्य बनाना होगा जल बचाव का प्रयास करना होगा।

*जल को बचाने के लिए हमें पानी की कीमत को समझते हुए। पानी को कम बहाना होगा। जिसे जल बचाओ की बढ़ती कमी काम हो सके।

*जल की कीमत को हमे समझना होग। जल बचाओ की जागरूकता कार्यक्रम को भी बढ़ावा देना हिग्स इसके प्रति लोगों को जागरूक करना होगा।

*जल बचाओ अभियान को सफल बनाने में हम सभी को अपनी भूमिका ईमानदारी से निभानी चाहिए। तभी जल की बचत संभव है।

निष्कर्ष।

जल ही जीवन है जल ही कल है। हम सभी को मिलकर जल की कीमत को समझना होगा। जल बचाव के लिए जागरूक होना ही होगा। जिससे आने वाले समय में हमारी पीढ़ी को जल की कमी ना हो सके।

मैं जैनब खान, LifestyleChacha.com पर हिंदी ब्लॉग/ लेख लिखती हूँ। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हूँ और मुझे लिखना बहुत पसंद है।

-जैनब खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *