ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जीवनी (A.P.J. Abdul Kalam Biography in Hindi)

A.P.J. Abdul Kalam Biography in Hindi

A.P.J. Abdul Kalam Biography in Hindi : हम इस आर्टिकल में जानेंगे एक सबसे महान व्यक्ति की जीवनी के बारे में जिनका नाम हर कोई बड़े सम्मान से लेता है। और वो है  ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी.  जो कि भारत के 11 वे राष्ट्रपति थे। न सिर्फ भारत के राष्ट्रपति बल्कि भारत में वे मिसाइल मैन, इंजीनियरिंग, वैज्ञानिक क्षेत्र में भी उन्होंने अपनी एहम भूमिका निभाई है। चलिए दोस्तो ए पी जे अब्दुल कलाम के बारे में विस्तार से जानते हैं।

 

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जीवन परिचय।


अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 में धनुषकोडी तमिलनाडु में एक बेहद गरीब मुस्लिम परिवार में हुआ था। उनके पिता जैनुल अबिदिन एक नाविक थे। उनकी माता आशिमा ग्रहणी थी। और इनके पिता पढ़े- लिखे नहीं थे। उनके पिता अपना घर का खर्चा नाव मछुआरे को देकर चलाया करते थे। बेहद गरीब होने के कारण अब्दुल कलाम अपनी पढ़ाई के साथ ही उन्होंने अपने पिता की आर्थिक मदद करने के लिए वह स्कूल के बाद न्यूजपेपर का कार्य किया करते थे। कलाम पढ़ाई लिखाई में ज्यादा अच्छे नहीं थे। जितना कि नई चीजें सीखने में उनकी ज्यादा दिलचस्पी थी। उनमें सीखने की बहुत भूख थी। वो अपनी पढ़ाई पर भी घंटो का समय लगा दिया करते थे।

 

अब्दुल कलाम की शिक्षा।


*अब्दुल कलाम अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई करने के लिए रामनाथपुरम चले गए। वहीं उन्होंने हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की। उसी स्कूल में एक

*अपने टीचर के अब्दुल कलाम पसंदीदा स्टूडेंट थे। वह टीचर कलाम को समझाया करते थे कि अगर जिंदगी में कमियाबी हासिल करनी है तो तुम्हे लाइफ में तीन चीज़ों से दूर रहना होगा। ख्वाहिश, यकीन ,उम्मीद।

*सन् 1950 में अब्दुल कलाम ने अपनी पढ़ाई को आगे जारी रख कर। जोसेफ कॉलेज तिरुचिापल्ली में रह कर उन्होंने अपनी बीएसई पूरी की।

*कॉलेज की पढ़ाई पूरी करके उन्होंने इंजीनिरिंग की पढ़ाई शुरू की। फिर उन्होंने (मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ) कॉलेज से एमआईटी की।

*, इसके बाद उन्होंने अपनी कैरियर की शुरुआत की। सबसे पहले उन्होंने भारतीय सेना के लिए एक छोटा हेलीकॉप्टर डिजाइन बना कर तैयार किया।

 

मिसाइलमैन अब्दुल कलाम।


1980 में भारत सरकार ने एक आधुनिक मिसाइल प्रोग्राम अब्दुल कलाम ने डायरेक्शन से शुरू करने का सोचा। लेकिन फिर उन्होंने दुबारा DRDO को भेजा। उसके बाद निर्देशिक मिसाइल विकास कार्यक्रम आयोजित किया गया। अब्दुल कलाम के निर्देशों से ही अग्नि मिसाइल पृथ्वी जैसे मिसाइल का बनना सफल हो सका। डॉक्टर अब्दुल कलाम जानते थे कि राष्ट्र के विकास के लिए सभी व्यक्ति का शिक्षित होना बहुत जरूरी है। और सभी के जीवन में शिक्षा की एहम भूमिका है।

उन्होंने हमेशा देश की प्रगति को आगे ले जाने की बाते भी कहीं। उनके पास भविष्य के लिए एक सोच थी। जिसे उन्होंने अपनी पुस्तक इंडिया 2020 ए विजन फॉर द न्यू मिलिनियम प्रकाशित किया। उन्होंने अपनी इस पुस्तक में लिखा था कि भारत 2020 तक विकसित और नॉलेज सुपरपावर बनाना होगा। उनका कहना था कि देश की तरक्की में मीडिया को अपनी गंभीर भूमिका अदा करनी होगी। उन्होंने कहा कि नकारात्मक ख़बरें किसी को कुछ भी नहीं दे सकती। जितना कि सकारात्मक और देश के विकास की खबरें लोगो में उम्मीद की किरण जगाती हैं।

 

अब्दुल कलाम जी भारत में पदो से सम्मानित।


*विज्ञान के क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिए उन्हें 1981 में पद भूषण और 1990 में पद विभूषण से सम्मानित किया गया।

*1998 में अब्दुल कलाम को राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी अवार्ड से सम्मानित किया गया।

*रक्षा अनुसंधान क्षेत्र में अपने उलेखनीय योगदान के लिए उन्हें 1997 में देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

*1998 में रॉयल सोसायटी UK द्वारा King Charles मैडम से सम्मानित किया गया।

*अब्दुल कलाम को विश्व भर से 40 डॉक्टरेट की उपाधि हासिल है।

*2011 में अब्दुल कलाम को IEE द्वारा हो Honorary membership से सम्मानित किया गया।

*2012 मी भारतीय युवाओं के लिए कार्यकर्म what can I movement शुरू किया जिसका उद्देश्य था कि भारत में भ्रष्टाचार को हराया जाए।

 

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के विचार।


1. हम सभी को हमेशा प्रयास करते रहना चाहिए। चाहे समस्या कितनी भी हो।

2. जो लोग आधे-अधूरे मन से कम करते हैं, तो उन्हें सफलता भी अधूरी और खोखली ही हासिल होती है। जो चारो और करबाहट भर देती है।

3. प्रश्न पूछना सभी विद्यार्थी के लिए प्रमुख विशेषता में से एक है। इसलिए छात्रों सवाल पूछो।

4. अब्दुल कलाम कहा करते थे कि मेरे लिए कोई नकारात्मक जैसी अनुभव कोई चीज नहीं है।

5. ज़िन्दगी और समय विश्व के सबसे बड़े अध्यापक है। जिंदगी हमें समय का सही उपयोग करना सिखाती है, और समय हमें जिंदगी की उपयोगिता बताता है।

6. जब हम दैनिक समस्याओं से घिरे होते हैं तो हम उन अच्छी चीज़ों को भूल जाते हैं जो हमारे खुद के अंदर होती है।

7. इंसान को कठिनायों की जरूरत होती है। क्यूंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए यह बहुत जरूरी है।

 

निधन।


अब्दुल कलाम 27 जुलाई 2015 को शिलांग गए थे। वहा पर कॉलेज में बच्चो को लेक्चर देते समय अचानक तबीयत बिगड़ने से उन्हे हॉस्पिटल ले जाया गया। उसके बाद उनकी मृतयु हो गई। 84 की उम्र में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। उसके बाद उनके पार्थव शरीर को गुहाटी से दिल्ली ले आए। जहाँ पर आम जनता ने और सभी बड़े नेताओं ने उनके अंतिम दर्शन किए।

🙏🙏🙏🙏


ये भी पढ़े 👇

ज्योतिबा फुले जीवनी (Jyotiba Phule Hindi Biography)

Bhim Rao Ambedkar Biography in Hindi (डॉ. भीम राव अम्बेडकर जीवनी)

गौतम बुद्ध जीवनी (Gautam Buddha Hindi Biography)

सम्राट अशोक जीवनी (Samrat Ashoka Hindi biography)

सावित्री बाई फुले जीवनी (Savitribai Phule Biography in Hindi)

Comments