नरेंद्र मोदी जी के बारे में | Narendra Modi Biography in Hindi

Narendra Modi Biography in Hindi

Narendra Modi Biography in Hindi : मोदी जी भारत देश के सशक्त व प्रभावशाली नेता के रूप में उभरे हुए है। मोदी जी ने लोगों के दिलों में अपनी ऐसी छाप छोड़ दी है कि वह बहुत ही कम समय में भारत के एक लोकप्रिय नेता बन गए है। नरेंद्र मोदी भारत देश के14 वें ऐसे प्रधानमंत्री है। जिन्हें हर कोई मान-सम्मान देता है। चाहे वो देश हो या विदेश हो हर जगह माननीय मोदी जी की पहचान है।


मोदी जी ने ही हमारे भारत देश को एक डिजिटल इंडिया बनाने में अपनी एहम भूमिका निभाई है। मोदी जी भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर एक ऐतिहासिक जीत प्राप्त कर चुके है। उन्होंने हमारे देश में क्या कुछ बदलाव किए है। इसके बारे में आपको इस आर्टिकल में जरूर पता चलेगा। उम्मीद है कि आपको मोदी जी की जीवन के बारे में जानकर अच्छा जरूर लगेगा।



नरेंद्र मोदी जी का जीवन परिचय कुछ इस प्रकार है।


मोदी जी का जन्म जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के महसाना जिले मे एक छोटे से गांव में वाडनगर में एक निर्धन परिवार में हुआ था। मोदी जी के पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद्र मोदी है। माता का नाम हीराबेन है। मोदी जी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है। उन्हे बचपन में नरिया कहकर पुकारा जाता था।


मोदी जी के परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर थी। उनके पिता सड़क व्यापारी थे। जैसे तैसे उनके पिता ने घर का गुजारा किया। उसके बाद मोदी जी ने अपने परिवार का सहयोग करने के लिए अपने सभी भाइयों के साथ मिलकर बस टर्मिनल, रेलवे स्टेशन पर चाय बेची। ग़रीबी के चलते मोदी जी ने अपनी लाइफ में काफी संघर्ष किया उन्होंने अपनी जिंदगी में कई उतार चढ़ाव देखे थे। फिर भी मोदी जी ने कभी हार नहीं मानी निरंतर कोशिश करते रहे। 



मोदी जी की शिक्षा।


मोदी जी ने अपनी हाई सैकंडरी की स्कूली शिक्षा प्राप्त कर ली। लेकिन आर्थिक तंगी होने के कारण उन्हें पढ़ाई को बीच में ही छोड़ना पड़ा। मोदी जी को बचपन से ही नयी-नयी चीजें सीखने का और करने का बेहद शौक था। वह शुरू से ही देश के लिए कुछ करना चाहते थे, जिसके चलते उन्होने अपना घर छोड़ दिया और देश का दौरा करने निकल पड़े। 


वह भारत में कई जगहों पर घूमें और वहां की संस्कृतियों पर भी विशेष ध्यान दिया। उसके बाद वह दिल्ली आए और उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से पढ़ाई पूरी की। उसके बाद अहमदाबाद से गुजरात यूनिवर्सिटी से एम ए पॉलिटिकल साइंस से पूरी की। मोदी जी पढ़ाई में सामान्य थे लेकिन उन्हे सामाजिक वाद-विवाद पर चर्चा करना बेहद पसंद था और वह किताबें भी पढ़ा करते थे।



राजनीतिक कैरियर की शुरुआत।


मोदी जी में शुरू से ही देश के प्रति प्रेम की भावना रही है। जैसे ही मोदी जी ने पढ़ाई को पूरी करके उसके बाद उन्होंने राजनीतिक दल राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़ कर उसका पूरा समर्थन किया। इस संघ में अलग-अलग जगहों पर अपनी महत्वूर्ण भूमिका निभाई। राष्ट्रीय स्वयं सेवक द्वारा उन्हे भारतीय जनता पार्टी में जुड़ने के लिए भेजा गया।


जब सन् 1975-77 में इंदिरा गांधी द्वारा अपातकालीन लागू किया गया। साथ ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक पर भी रोक लगा दी गई थी। तभी मोदी जी को अपनी भेशभूषा बदल कर यात्रा करनी पड़ी ताकि उन्हे कोई गिफ्तार ना कर सके। उन्होंने इस अपातकालीन का कड़ा विरोध भी किया।


इसके बाद मोदी महासचिव नियुक्त किए गए जिसके दौरान इस पद में सन् 2001 तक कार्यरत रहे। फिर उन्हे कई राज्यो में पार्टी को समर्थन हासिल हुआ।



सन् 2001 में  मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का सफर।


जब मोदी जी ने पहली बार चुनाव लडे तो उन्होंने राजकोट में 2 में से 1 सीट हासिल की। फिर वह गुजरात के मुख्यमंत्री बन गए। फिर मोदी जी को गुजरात का कार्यभार दिया गया था।


7 अक्टूबर 2001 में सबसे पहले नरेंद्र मोदी ने गुजरात में मुख्यमंत्री की शपथ ली थी। फिर मोदी जी की लगातार जीत होती रही। फिर उन्होंने 2002 में राजकोट के द्वितीय निर्वाचन क्षेत्र के लिए उपचुनाव जीता।


जब मोदी जी को क्लीन चिट मिल गई तो उन्होंने गुजरात में दूसरी बार चुनाव में विजय हासिल की थी। फिर उन्होंने राज्य के लिए कार्य करना शुभ कर दिए थे। मोदी जी ने गुजरात राज्य में टेक्नोलॉजी का भी जोरों-शोरों से निर्माण करवाया जिससे वहां काफी अच्छे परिवर्तन देखने को मिले। इससे वे गुजरात के मुख्यमंत्री काफी समय तक रहे और जनता का भी उन्हे भरपूर साथ मिला।


इसके चलते मोदी जी ने दोबारा से गुजरात में तीसरी बार विधान सभा चुनाव जीते फिर वह गुजरात के तीसरे प्रधानमंत्री के रूप में उभरे। मोदी जी ने गुजरात की आर्थिक स्थिति में काफी सुधार किया। साथ ही कृषि उद्योग पर भी ध्यान केंद्रित किया। जिसके चलते गुजरात बाकी राज्यों से काफी आगे निकल गया। छोटे समुदाय के लिए कई सारे मिशन भी गुजरात में मोदी द्वारा चलाए गए। जिससे वहां की जनता को भी काफी संतुष्टि मिली।


सन् 2012 में मोदी जी फिर से गुजरात के चौथी बार मुख्यमंत्री बने। जिससे उन्हें अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने का श्रेय दिया गया। गुजरात में मोदी जी को मुख्यमंत्री के रूप में सबसे आगे रखा गया साथ ही उनके कार्य को भी बहुत ही ज्यादा महत्व दिया गया हालांकि वहां पर गरीबी समृद्धि तो ज्यादा सुधर नहीं पाई लेकिन फिर भी मोदी जी की नीतियों ने गुजरात में काफी कुछ बदल कर रख दिया था।



2014 से मोदी जी का प्रधानमंत्री का अब तक का सफर।


मोदी जी को भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष बना दिया गया। उसके बाद उन्होंने पूरे देश में प्रधानमंत्री के रूप में उम्मीदवार चुनाव के लिए रैलियाँ  निकलवाई फिर उन्होंने मई 2014 में भारत के 14 वें प्रधानमंत्री की शपथ ली। भारतीय जनता पार्टी को 534 में से 282 सीट मिली। जो की भाजपा के लिए यह एक ऐतिहासिक जीत रही। 


फिर उसके बाद मोदी जी ने भारत की विदेश नीति पर अधिक बल दिया जिससे की भारत की आर्थिक स्थिति में सुधार लाया जा सके। इसके अलावा उन्होंने भारत की शिक्षा पर भी अधिक बल दिया। अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए भी उन्होंने काफी सारी नीतियों का निर्माण किया जिससे भारत प्रगति की ओर जा सके इसके चलते लोगों में भी मोदी जी से काफी सारी उम्मीदें उम्मीदें बढ़ने लगी।


2019 में फिर से मोदी जी को ऐतिहासिक जीत मिली। पूरे विश्वास के साथ मोदी जी को फिर से वोट दिया गया और अपना प्रधानमंत्री लोगों ने मोदी जी को चुना। ऐसा इसलिए संभव हो सका क्योंकि मोदी जी ने लोगों का विश्वास पूरी तरह से जीत लिया था। इसके बाद से तो मोदी जी का पूरे भारत में अब तक नाम गूंज रहा है।



मोदी जी के शौक़


मोदी जी को बचपन से ही एक्टिंग करने का बहुत शौक़ था। वह अपने स्कूल में नाटकों में हिस्सा लेते थे और बहुत ही बढ़िया एक्टिंग करते थे। उन्हें  कविताएँ लिखने का भी बहुत शौक़ था। वह बचपन में बहुत अच्छी-अच्छी कविताएँ लिखा करते थे। और आज के समय में तो हम सभी जानते है मोदी जी को महंगे-महंगे डिज़ाइनर कपडे पहनने और ब्रांडेड पेन रखने का बहुत शौक़ रखते है। मोदी जी के पास जो पेन है वो मोंटब्लैंक कंपनी का है जिसकी कीमत 1.3 लाख है।   



मोदी जी द्वारा भारत में शुरू की गई योजनाएं कुछ इस प्रकार हैं। 


बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ।


सुकन्या  समृद्ध योजना।


जनधन योजना।


स्वच्छ भारत अभियान।


प्रधानमंत्री उज्जवल योजना।


डिजिटल इंडिया प्रोग्राम।


प्रधानमंत्री आवास योजना।


गरीब कल्याण योजना।


कौशल विकास योजना।


मेक इन इंडिया।


कृषि सिंचाई योजना।


फसल बीमा योजना।




Comments