क्योंकि मैं एक लड़की हूँ (हिंदी कविता) Kyunki Main Ek Ladki Hun (Hindi Poem)

पैदा हुआ जब भाई मेरा सबनें जश्न मनाया था, फिर क्यों मेरे पैदा होने पर सबने शोक मनाया था। क्योंकि

Read more

खुशियाँ (हिंदी कविता) Khushiyan (Hindi Poem)

ढूढंते-फिरते हैं हम पल-पल खुशियों के पिटारे पर पिटारो को दस्तक देते, मैने अक्सर गरीबों के मोहल्लो में देखा है।

Read more