स्वास्थ्य पर निबंध – Essay on health in Hindi

Essay on health in Hindi: “स्वास्थ्य पर निबंध” स्वास्थ्य एक ऐसा महत्वपूर्ण विषय है जिस पर लोगों को ध्यान देने की बहुत आवश्कयता है. एक स्वस्थ शरीर ही सफलता की ओर अग्रसर रहता है. आज के समय में लोगों के पास खुद के खाने पीने तक का समय नहीं है तो वो अपने सेहत पर ध्यान क्या देंगे.

स्वस्थ शरीर पर न ही मानसिक विकास निर्भर करता है बल्कि शारिरिक विकास भी. इसलिए लोगों को स्वस्थ रहना चाहिए ताकि वो और उनके आसपास का माहौल भी खुशनुमा रहे.  एक स्वस्थ व्यक्ति जो होता है वो सकारात्मक सोच से प्रभावित रहता है, लेकिन जो अस्वस्थ व्यक्ति होता है वो नकारात्मक सोच से भर होता है.

 

स्वास्थ्य की परिभाषा :

हम सभी का मानना है कि एक स्वस्थ और सेहतमंद व्यक्ति वो है जो शरीर से स्वस्थ है और वह सभी कार्य को अच्छे से कर रहा है. (यानि हम एक स्वस्थ व्यक्ति की पहचान उसके कार्य करने की क्षमता से करते हैं.) लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा एक स्वस्थ और सेहतमंद व्यक्ति वो है जो शारिरिक, मानसिक और सामाजिक रूप से स्वस्थ हो. वही व्यक्ति स्वस्थ है, किन्तु इसके बाद भी काफी सारे रिसर्च हुए है जिनके मुताबिक आज के समय में पूर्ण रूप से उस व्यक्ति को स्वस्थ माना गया है जो शारिरिक, मानसिक और सामाजिक विकास के साथ साथ आध्यात्मिक और संज्ञानात्मक रूप से भी स्वस्थ हो.

 

स्वस्थ रहने का महत्व :

अपने शरीर को रोगों से मुक्त रखना हर एक व्यक्ति का प्रयास होना चाहिए. क्योंकि हर एक मनुष्य का स्वास्थ्य रहना उसके पूरे जीवन, करियर और सफलता सभी निर्भर करती है. सेहतमंद रहना मानव जीवन का मूल आधार है. जो लोगों को कार्य करने हेतु प्रेरित करता है.

वही दूसरी तरफ देखें तो एक बीमार व्यक्ति कभी भी कोई भी जिम्मेदारी नहीं निभा पाता और परिवार की जिम्मेदारी को भी निभाने में असमर्थ रहता है. यहाँ तक की वह अपने दैनिक कार्यों के लिए भी किसी और पर निर्भर रहता है. अस्वस्थ लोग ज्यादातर नकारात्मकता से भरे रहते है.

यदि घर का कोई एक भी व्यक्ति बीमार हो तो पूरे घर उससे प्रभावित होता है. ऐसे व्यक्ति के घर के लोग मानसिक शारिरिक और आर्थिक रूप में भी कमजोर हो जाते है, और न ही वे कामयाबी पा सकते हैं. वही दूसरी तरफ यदि कोई व्यक्ति स्वस्थ रहता है तो वह अपना जीवन यापन करने में सक्षम होता है. यह कामयाबी की तरफ अग्रसर रहता है और अस्वस्थ व्यक्ति को असफलता की ओर ले जाता है.

Essay on health in Hindi

 

जानिए कैसे स्वास्थ्य और सफलता जरुरी है :

एक स्वस्थ व्यक्ति का मष्तिष्क हमेशा ही बेहतरीन और सफलता की ओर अग्रसर होने के नए नए आईडिया सोचता रहता है, जबकि अस्वस्थ व्यक्ति के मष्तिष्क में हमेशा गलत सोच का जन्म होता रहता है. अस्वस्थ व्यक्ति की सोच उसे आगे बढ़ने नही देती है. स्वस्थ और सफलता का आपस में एक गहरा नाता है. कई विद्वानों ने स्वास्थ्य को धन भी कहा है .

स्वास्थ्य से जुडी हुई बातें हमारे वेदों में से एक वेद है अथर्ववेद उसमे भी शरीर को हर प्रकार से स्वस्थ रखने को कहा गया है. एक पूर्ण रूप से स्वस्थ व्यक्ति के दिमाग में एक स्वस्थ मस्तिष्क होता हैं. जो उसे सफलता की ओर ले जाता हैं ,इसलिए कहते है स्वास्थ्य और सफलता दोनों ही जरूरी हैं पर स्वास्थ्य अधिक जरूरी हैं. तभी वो अपने हर लक्ष्य को प्राप्त कर पाएंग.

जितना शारिरिक रूप से स्वस्थ रहना जरूरी हैं उतना ही मानसिक रूप से भी स्वस्थ रहना चाहिए क्योंकि यदि व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ नही होता तो वह हर वक़्त तनाव में रहेगा. जिससे वह असफलता की ओर जाता रहता है . वो अपने लक्ष्य पर ध्यान नहीं दे पाता है.

Essay on health in Hindi

 

जानिए स्वस्थ रहने के तरीके : जो व्यक्ति पूर्ण रूप से स्वस्थ रहना चाहते है तो वो लोग इन तरीकों को अवश्य समझे और करें.

  • नियमित रूप से व्ययाम करना
  • अच्छे से भोजन करना
  • पूरी निंदा ले
  • ध्यान करें
  • बुरे विचार वाले लोगों से दूर रहे
  • नियंत्रण जांच करवाएं
Essay on health in Hindi
1. नियमित रूप से व्ययाम करना : एक स्वस्थ व्यक्ति की तरह रहने के लिए जरूरी है कि आप हमेशा व्ययाम करें. इससे शारिरिक रूप से इंसान स्वस्थ तो रहता ही है साथ में वह अपना ध्यान आपने लक्ष्य की ओर लगा सकता है.

2. अच्छे से भोजन करना : हमेशा स्वास्थ् रहने के लिए जरूरी है कि लोग समय पर और स्वस्थ भोजन करें. जिससे उनका शरीर फुर्तीला और एनर्जी से भरपूर में रहता है. आपना ध्यान भी वो आपने लक्ष्य की तरफ केंद्रित रखता है.

3. पूरी निंदा लें : हर एक इंसान के लिए जरूरी हैं कि वो 6 से 8 घंटे की नींद ले क्योंकि इससे वह थका थका महसूस नहीं करता और तनाव से भी दूर रहता है.

4. ध्यान करें : ध्यान करना भी हमारे स्वस्थ शरीर के लिए बहुत आवश्क है, क्योंकि इससे व्यक्ति मानसिक तनाव से दूर रहता है. अपने कार्य को अच्छे से कर पाता है. स्वास्थ्य व्यक्ति तभी कोई होता है जब वह मानसिक तनाव से ग्रसित न हो. इसलिए ध्यान करना आवश्यक है.

5. बुरे विचार वाले लोगों से दूर रहे : ज्यादातर युवा स्कूल टाइम में कुछ बुरे विचार वाले लोगो के साथ दोस्ती कर लेते है, इसका परिणाम यह होता है कि वह पढ़ाई और ज्ञान से दूर हो जाते है और सिगरेट, गुटखा, बियर, शराब आदि लेना शुरू कर देते है। जिससे उनके स्वास्थ पर बुरा असर पड़ता है। और वे अपने जीवन में पिछड़ जाते है।

6. नियंत्रण जांच करवाएं : ज्यादा तर लोग समय समय पर चेकअप करवाना नही चाहते. जबकि समय समय पर जांच करवाने से हम अपने आप को एक बड़ी बीमारी होने से बचा सकते हैं. इसलिए हमें हमेशा चेकअप करवाते रहना चाहिए.

निष्कर्ष : इस समय लोग पैसे कमाने के लिए ऐसे भाग रहे हैं कि वो न तो चैन से खा पाते है और न ही चैन की नींद ले पाते है . तो वह ध्यान और व्ययाम क्या करेंगे. इन सब बातों को समझने के लिए जरूरी है लोगों में जागरूकता फैलना ताकि वह नियमित रूप से अपना ध्यान रख सके और जीवन में अपनी सफलता की ओर अग्रसर रहे ।

(ज्योति कुमारी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *