शरीर की कमजोरी कैसे दूर करें? | How to be Stay Healthy in Hindi

How to be Healthy in Hindi : नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि शरीर की कमजोरी कैसे दूर करें? अधिकतर लोग अपनी कमजोरी की वजह से बहुत ज्यादा परेशान रहते हैं। उन्हे अपने कमजोर शरीर को लेकर बहुत ज्यादा शर्मिंदगी महसूस होती है। अपने कमजोर शरीर को लेकर अधिकतर लोग बहुत से नुस्खे अपनाते हैं। तरह-तरह की दवाईयां खाते हैं। और ना जाने क्या-क्या करते हैं। लेकिन उन्हे अपनी कमजोरी को लेकर कोई हल नहीं मिल पाता है। इसी वजह से वह लोग परेशान रहते हैं। और बहुत से लोग तो अपनी कमजोरी की वजह से बीमारियों से घिरे रहते है।  तो दोस्तो चलिए जानते हैं। शरीर की कमजोरी दूर करने के उपाय।

 

हलका ब्रेकफास्ट करने की बजाय भारी ब्रेकफास्ट करें।

दोस्तों यदि आप सुबह उठकर हलका ब्रेकफास्ट करते है। तो आपको अपने शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए नाश्ते में पनीर, ऑमलेट, पराठे, मिक्स सब्जियाँ, शामिल करनी होंगी। यदि आप एक अच्छा और पॉवरफुल नाश्ता सुबह के समय लगातार 6 महीने तक करते है तो आपकी शरीर की कमजोरी 100 प्रतिशत दूर हो जाएगी। ये एकदम प्रैक्टिकल और आज़माया हुआ उपाय है।

भोजन के साथ ये चीजे जरूर शामिल करें।

दोस्तों अपने भोजन में हम सभी सब्जी रोटी खाते है। और फिर भी शरीर में कमजोरी रहती है सेहत नहीं बनती। इसका एक सबसे बड़ा कारण है की हम अपने भोजन के साथ कुछ चीजे शामिल नहीं करते जोकि बिलकुल कॉमन है। दोस्तों अपने दोपहर के भोजन में सब्जी के साथ में दाल, दही, और सलाद जरूर ले। इसी तरह रात के खाने में दाल, सलाद ले दही आप न ले। कुछ महीने आप भोजन में ये चीजे शामिल करके देखिये। आपकी भूख बढ़ेगी और आपकी सेहत भी अच्छी हो जाएगी।

 

इस तरीके से करें केले का सेवन।

ज्यादातर लोग सुबह मॉर्निग में खाली पेट केला खाते है। सब एक दूसरे को कॉपी करते है। लेकिन दोस्तों 5-5 या 10-10 केले खाने से कुछ नहीं होता। आपको केला एक फल के तौर पर खाना है जिसकी मात्रा है सिर्फ 2 केले। मीठा पका हुआ और केले के छिलके पर डॉट से आप केले की पहचान कर सकते है।

अगर आपको भी अपनी कमजोरी को दूर करना है। तो रोज दिन में केले का सेवन जरूर करे। हो सके तो केले के साथ आप दूध का सेवन भी कर सकते है। क्यूंकि इससे ना सिर्फ आपकी कमजोरी दूर होगी। बल्कि कमजोरी पर भी कुछ ही दिनों में आपको फर्क दिखने लगेगा। इसलिए दोस्तो केले का सेवन जरूर करे।

 

रात को सोने से पहले दूध जलेबी खाए।

दोस्तो यह छोटी-छोटी खाने की चीजे भी हमारी बॉडी में काफी ज्यादा कमजोरी को दूर करती है। इसलिए रोज रात को दूध जलेबी जरूर खाएं। इससे आपकी पॉवर बढ़ती है और आपके अंदर कमजोरी भी दूर होती है। आप मोटे और तंदरुस्त हो जाते हो।

 

घी मक्खन खाए।

दोस्तो आप सभी को अपनी हेल्थ को लेकर घी मक्खन जैसे खाद्य पदार्थ का सेवन जरूर करे। क्यूंकि यह हमारी कमजोरी को मिटा कर हमें पावर देते हैं। इसलिए दोस्तो अपनी सेहत पर जरूर ध्यान दे। ताकि आप सभी की कमजोरी पूरी तरह दूर हो सके।

 

फल और हरी सब्जियों का सेवन करें।

अपनी कमजोरी को दूर करने के लिए दिन में कम से कम पांच तरह के फलो का सेवन करें। जिससे आपकी कमजोरी पर बहुत जल्दी फर्क पड़ेगा। और आपको चक्कर जैसी बीमारी से निजात मिलेगा। आपका शरीर स्वस्थ होगा। अपने खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। जैसे पालक, मेथी, गाजर, गोभी, आदि। सब्जियों का अपने भोजन में शामिल जरूर करें। क्यूंकि इनमें अधिक मात्रा में पोषक तत्व शामिल होते हैं। जिससे हमारा शरीर बीमारियों से मुक्त रहेगा। और शरीर कमजोरी से भी मुक्त होगा। इसलिए यह सब्जियों का भी सेवन करे।

 

शरीर कमजोर होने के कारण कुछ इस प्रकार है।

 

खाना समय पर ना खाना।

अधिकतर लोग खाना समय पर ना खा कर। खाना कभी भी खा लेते हैं। जिससे उनके शरीर में कमजोरी का आना शुरू हो जाता है। जिससे हमारा शरीर भी स्वस्थ नहीं रहता है। और कमजोरी का शिकार होने लगते हैं।

 

अधिक चलना या दौड़ना।

बहुत से लोग बिना खाए पिए दौड़ते है या अधिक चलना फिरना लगा रहता है। जिससे उनकी शरीर में कमजोरी आने लगती है। और कमजोर शरीर में पानी की कमी भी होने लगती है। इसलिए अधिक दौड़ना या चलना भी शरीर के लिए हानिकारक होता है।

 

अधिक तनाव में रहना।

ज्यादातर लोग अपनी जिंदगी में इतना तनाव में रहते हैं कि उन्हें किसी भी चीज का अपनी जिंदगी में ख्याल नहीं रहता सिर्फ उनका ध्यान सिर्फ तनाव में रहता है। जिससे वह अपनी जिंदगी में भी आगे नहीं बढ़ पाते हैं। साथ ही अपने शरीर को भी खो देते हैं। अगर आप भी कमजोरी से दूर रहना चाहते हैं तो तनाव मुक्त रहे। और लाइफ में खुश रहे।

 

 कमजोरी के लक्षण।

*चक्कर आना।

*शरीर में कमजोरी महसूस होना।

*आंखो में आंसुओ का आना व कम दिखाई देना।

*घबराहट होना व जी मचलना।

*शरीर में बार बार कम्पन होना।

*काम करने में अधिक थकावट महसूस होना।

*शरीर में दर्द रहना।

*उतने बैठने में परेशानी।

*अधिक नींद आना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *