ऑनलाइन दोस्ती करने के नुकसान – Disadvantages of online friendship in Hindi

Disadvantages of online friendship in Hindi : नमस्कार दोस्तों, आज का आर्टिकल ऑनलाइन फ्रेंडशिप पर आधारित है। ऑनलाइन दोस्त बनाने के क्या क्या नुकसान हो सकते है। ये आप इस ब्लॉग पोस्ट में जानेंगे। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारी युवा पीढ़ी अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए ऑनलाइन दोस्त बना कर उस पर आंख बंद करके इस कदर भरोसा कर बैठते हैं कि वह ऑनलाइन दोस्त के चक्कर में अपनी इज्जत अपनी शोहरत सबकुछ दाव पर लगा देते हैं क्यूंकि हम ऐसे अनजान व्यक्ति पर भरोसा करके खुद को मुसीबत में डाल लेते हैं। 
इसलिए ऑनलाइन दोस्त पर भरोसा करने से पहले यह जान लेना आपके लिए बहुत जरूरी है कि वह अपने फायदे के लिए आपको किस हद तक मुसीबत में डाल सकता है।

 

आपको ऑनलाइन दोस्त क्यों नहीं बनाने चाहिए?

हमें ऑनलाइन दोस्त बनाने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि क्या सचमुच हमें ऑनलाइन दोस्त बनाने से ख़तरा है या नहीं ? क्यूंकि हर चीज के दो पहलू होते है। कुछ लोगो को ऑनलाइन अच्छे दोस्त मिल जाते है और कुछ अच्छे कपल भी बन जाते है। 
लेकिन ज्यादातर ऑनलाइन फ्रेंडशिप के परिणाम बुरे ही होते है। इसलिए आपको  ऑनलाइन दोस्ती से अलर्ट रह कर खुद को सुरक्षित रखना चाहिए? 
जैसा कि आप जानते है, बहुत से युवक फेक अकाउंट बना कर लड़कियों को मैसेज करके परेशान करते हैं। वही दूसरी और कुछ लड़कियाँ ऑनलाइन लड़को को फसाती है। 
नए-नए युवा-युवती जो जवानी में कदम रख रहे है।वो ऑनलाइन दोस्ती के चक्कर में फस कर अपना पैसा, इज्ज़त, मान-सम्मान सब खो बैठते है। कुछ लड़कियाँ भोली और मासूम होती है जो किसी लड़के के प्यार में पड़ जाती है और उनकी बातो में आ कर अपनी सभी पर्सनल बाते बताने लगती है। यहां तक कि अपना पर्सनल नंबर तक उन्हें सेंड कर देती है। फिर धीरे धीरे वहीं लड़का अपनी मीठी बातों से उनको फसा कर ब्लैकमेल करता है।

वहीं कुछ मासूम लड़के कुछ ऐसी लड़कियों के चक्कर में पड़ जाते है जो उन्हें पूरी तरह बर्बाद कर देती है। झूठा रेप का आरोप लगाने का डर दिखा कर उनसे पैसे लूट लेती है। दोस्तों आप चाहे लड़के हो या लड़की लेकिन किसी पर जल्दी से भरोसा न करे।

दोस्तों आपको समझ आ गया होगा कि आपको ऑनलाइन दोस्त बनाने से क्यों बचना चाहिए। ध्यान रखियेगा अगर आपके ऑनलाइन दोस्त है भी तो उनसे कभी भी पर्सनली ना होइये। उन्हें किसी भी प्रकार की फोटो या अपना पर्सनल नंबर ना दें। क्योंकि अपनी सेफ्टी अपने ही हाथ में होती हैं। इसलिए हमे खासतौर पर किसी अनजान व्यक्ति से कभी क्लोज नहीं होना चाहिए। 
क्योंकि ना तो हमे उसके बारे में कोई जानकारी होती है ना ही उसके बारे में हम सही से जानते हैं और हमे तो नुकसान होगा साथ ही हमारे भविष्य पर बुरा असर पड़ सकता ह। इसलिए हमे कभी भी ऑनलाइन दोस्त पर जल्दी से भरोसा नहीं करना चाहिए।

 

बातो में गुमराह करना।

Disadvantages of online friendship in Hindiऑनलाइन दोस्त आपको अपनी बातो में गुमराह करता है। साथ ही आपको अपने बैकग्राउंड के बारे में गलत जानकारी दे कर आपसे सब सच जान लेते हैं। आपको अपनी मीठी वाणी में इस कदर प्रभावित करते हैं। कि आपका एक पल में भरोसा जीत लेते हैं। 

क्योंकि हम चैटिंग के दौरान किसी भी इंसान का पता नहीं लगा सकते हैं कि वह सही है या गलत है। इसलिए ऑनलाइन दोस्त की बातो से गुमराह होने से बचें।

 

फेक आईडी हो सकती है।

Disadvantages of online friendship in Hindiऑनलाइन दोस्त में यह पता लगाना मुश्किल होता है कि उसकी आईडी फेक या रियल हैं। इसलिए ऑनलाइन दोस्त पर भरोसा करने से पहले थोड़ा उसके बारे में रिसर्च कर ले। 

अगर बिना उसके बारे में जाने आप उस पर भरोसा करेंगे तो आपको कई तरह के खतरे हो सकते है। हो सकता है वो कोई हैकर हो। आपको वह अपनी बातों में फसा कर आपसे पैसे ले कर आपका पर्सनल अकाउंट हैक कर सकते हैं।

आपका ऑनलाइन गलत इस्तेमाल करना।

Disadvantages of online friendship in Hindiजैसा कि आप सभी जानते हैं कि अधिकतर लोग यह सोचते हैं कि अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए हम ऑनलाइन दोस्त बना ही लेते हैं। हालाकि इसी कारण की वजह से हम ऑनलाइन दोस्त के शिकार बन जाते है। 

वह हमारी चैटिंग को अलग-अलग सोशल मीडिया पर शेयर तक कर देते हैं। जिससे आपका मज़ाक बन कर रह जाता है। साथ ही आपकी बदनामी होती है। इसलिए कभी भी इस तरह की गलतियों को अंजाम देने से बचे।

 

ऑनलाइन दोस्त आपका कभी भी दुश्मन बन सकता है।

Disadvantages of online friendship in Hindiहम ऑनलाइन दोस्त के लिए यह अनुमान लगा बैठते हैं कि वह ऐसा होगा वैसा होगा। हमें लगता है कि हमारा ऑनलाइन दोस्त बहुत ही अच्छा और सच्चा होगा। हालाकि इस गलत अनुमान की वजह से हम खुद को मुसीबत में डाल लेते हैं। हम उसके बारे में अच्छा सोच कर उस पर भरोसा कर लेते हैं। 
इसी दौरान कभी हमारी उससे लड़ाई हो जाती है तो वह कब दोस्त से दुश्मन में तब्दील हो जाए? यह अंदाजा हम नहीं लगा सकते कि वह हमसे बदला लेने के लिए किस हद तक गिर जाए। इसलिए कभी भी आंखो पर पट्टी बांध कर ऑनलाइन दोस्त पर भरोसा ना कर बैठे।

 

निष्कर्ष

निष्कर्ष के तौर पर यह कहा जा सकता है कि ऑनलाइन दोस्त बनाने के हमें कई नुकसान हो सकते है हम बर्बाद भी हो सकते है। और ना जाने हमारे साथ कितना गलत हो सकता है। जिस प्रकार आज हमारी युवा पीढ़ी ऑनलाइन दोस्त पर भरोसा कर लेती है। एक छोटी सी गलती उन पर कब भारी पड़ जाए कहा नहीं जा सकता। इसलिए ऑनलाइन दोस्तो से बचे और सुरक्षित रहे।

मैं जैनब खान, Lifestylechacha.com पर हिंदी ब्लॉग/ लेख लिखती हूँ। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हूँ और मुझे लिखना बहुत पसंद है।

-जैनब खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *