आलस कैसे खत्म करें – How to overcome laziness in Hindi

How to overcome laziness in Hindi : नमस्कार दोस्तों आज मैं आपको बताने वाली हूं कि अपने आलस को किस तरह खत्म किया जाए। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आलस तो सभी के अंदर होता है। किसी में ज्यादा तो किसी में कम लेकिन होता जरूर है। और अगर एक बार आलस आ जाए तो हमारा बना बनाया काम बिगड़ता चला जाता है। जिससे हमें कई सारे नुकसान होते हैं। आलस इंसान को तबाह कर सकता है। अगर आप में भी आलस है तो जान लीजिये ये किस प्रकार आपको नुकसान पहुँचा सकता है। चलिए विस्तारपूर्वक जानते हैं।

 

आलस के कारण जीवन में मान सम्मान न मिलना।

जो अलसी इंसान होता है वो हमेशा आराम ढूंढता है। और हर काम से बचने की कोशिश करता है। ऐसे लोगों को कहीं पर भी मान सम्मान नहीं मिलता है। ना तो उनकी कहीं इज्जत होती है। हर जगह उनकी हर कोई उस अलसी इंसान की निन्दा करते हैं। हर जगह से उन्हे ताने मिलते हैं। ऐसे लोग सभी के लिए धरती पर बोझ के समान होते हैं। इसलिए अगर आप भी हर बात पर आलस को दिखाते हैं तो अपने आलस को निकाल फेंको ताकि आपको हर जगह मान सम्मान मिले।

How to overcome laziness in Hindi

आलस के कारण कामियाबी हासिल ना होना।

दोस्तो यह सच है कि हम अगर हर बात पर आलस आप दिखाते हैं तो जिंदगी में आप नाकामयाब रहते हैं। और अपनी जिंदगी में कामियाबी को कभी भी हासिल नहीं कर पाते है। फिर बाद में अगर हमारे फ्रेंड्स हमसे लाइफ में आगे बढ़ जाते हैं तो हमें बहुत ही ज्यादा अफसोस होता है। अगर आप अपनी जिंदगी में किसी भी प्रकार का अफसोस नहीं करना चाहते तो अपने आलस को साइड में रखो और पूरी मेहनत ईमानदारी के साथ अपने गोल पर फोकस करो और लाइफ में कमियाबी को हासिल करें। क्यूंकि अब भी हमारे पास समय है लाइफ में कुछ कर दिखाने के लिए।

 

आलस के कारण हैल्थ का खराब होना।

जो बहुत ही ज्यादा आलसी होता है। वो हमेशा सोता है, लेटा या बैठा रहता है। जिसके कारण वह न तो अपने शरीर पर ध्यान देते हैं न ही उनकी हेल्थ अच्छी होती है। क्यूंकि वह हर काम में आराम चाहता है। न तो मेहनत करता है। अगर दोस्तो आपके साथ भी कुछ ऐसा है तो आज से और अभी से आलस के दूर करो। घूमो फिरो काम के प्रति जागरूक रहें खुश रहे।

 

अलास से कैसे बचा जाए

 

बुढापे में आराम चाहिए तो जवानी में मेहनत करें।

दोस्तो अगर आप चाहते हैं कि आपको बुढापे में कोई तकलीफ़ ना हो आराम की जिंदगी व्यतीत करना चाहते हैं। तो अपनी जवानी को आलस में बर्बाद ना करके इस जवानी के समय अपनी लाइफ में आगे बड़े ताकि आपका बुढापा एक बेहतर तरीके से गुजरे। इसलिए मेहनत से ना घबराए बल्कि हार्ड वर्क स्मार्ट वर्क करके लाइफ में आगे बढ़े।

 

रोजाना नहाने की आदत डाले।

दोस्तो अगर आप सच में आलस से मुक्ति पाना चाहते हैं तो रोजाना सुबह सुबह नहाए जिससे हमें ना सिर्फ फ्रेश महसूस होता है बल्कि हम पूरा दिन फुर्ती में रहते हैं। और हमारा शरीर भी स्वस्थ होता है। ना ही आलस आता साथ ही पूरा दिन एक्टिव रहते हैं।

 

काम टालने की आदत छोड़ने की कोशिश करें।

दोस्तो जो आलसी होता है। वो अपने काम को हर दिन टालता है। बल्कि ऐसा करके वह अपने समय को गवाता है। और अपनी जिंदगी में सबसे अधिक परेशानी में रहता है। क्यूंकि वह काम को टालकर अपना काम और ज्यादा मात्रा में बड़ा लेता है। जिससे उन्हें काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। इसलिए कल काम करने से अच्छा है। वक्त पर काम को करें। काम को टालने की आदत को अपने अंदर से त्याग दें।

 

कम सोने की आदत डाले।

दोस्तो जितना हो सके अपने सोने की आदत को कम करें। क्यूंकि ज्यादातर सोना हमारे लिए बहुत ही नुक़सानदायक होता है। हमारे अन्दर मोटापा व आलस दिन पर दिन बड़ता चला जाता है। इसलिए दोस्तो स्वस्थ रहे। ऐसी बुरी आदतों को छोड़ दें।

 

नोट

दोस्तो मेरा आप सभी से अनुरोध है कि अपनी जिंदगी को अच्छे से एन्जॉय के साथ गुजारे। लाइफ में आगे बढ़ने के लिए आलस को छोड़ कर। थोड़ी मेहनत पर ध्यान दे। अपनी बुलंदियों को छू कर रहे। क्यूंकि लाइफ में कोई काम मुश्किल नहीं होता है।

जैनब खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *