ज़िद्दी बच्चों को कैसे समझाये – Ziddi bachho ko kaise samjhaye/control kare

ज़िद्दी बच्चों को कैसे समझाये: दोस्तों जैसा की हम सब जानते हैं कि आज कल के बच्चे इतने शरारती और इतने ज़िद्दी हो गए हैं कि उन्हें संभाल पाना हर माता-पिता के लिए बहुत ही ज्यादा मुश्किल हो गया है। ऐसे में प्रेंट्स को समझ नहीं आता है कि किस प्रकार वह अपने बच्चों की जिद्द को कंट्रोल में करे, और उस बच्चे को किस तरह से समझाए. अपने बच्चों की जिद्द से निजात पाने के लिए, मै आपके लिए लेकर आई हूँ कुछ रोचक तथ्य, जिससे कि आप अपने बच्चे को सुधार भी सकेंगे और उन्हें कंट्रोल में भी रख सकेंगे.

 

बच्चे जिद्दी क्यों होते हैं?

बच्चे जिद्दी हमारे ज्यादा प्यार की वजह से भी हो जाते हैं और या फिर उन्हें समय न देने के कारण भी जिद्दी हो जाते हैं. कई बार देखा गया है कि बच्चे जिद्दी और भी कारणों की वजह से हो जाते है, जैसे –

बच्चे को ज्यादा भूख लगना : अक्सर देखा गया है कि बच्चे जरूरत से ज्यादा खाने लगते हैं और फिर यदि कोई उन्हें रोकता है तो अशिष्ट व्यहवार करते हैं. ऐसा वो इसलिए करते है क्योंकि उनके दोस्तों के द्वारा उनका मजाक न बने जैसा कोई उन्हें दुबला पतला न बोले.

अपनी हर ख्वाहिश पूरी करवाना : हम सभी जानते है कि यदि बचपन से किसी बच्चे को बिना बोले हर चीज मिल जाती है तो उनके दिमाग में यह बात बैठ जाती है कि वो कभी भी कुछ भी मांगेगे तो उनके परिवार वाले लाक़े दे देंगे. फिर जब कभी माता पिता आर्थिक समस्या से घिरे होते हैं तो उनके बच्चे उनकी बातों को नही समझते केवल उन्हें अपनी जिद्द पूरी करवानी होती है.

लाड प्यार ज्यादा करना : अक्सर ज्यादा लाड़ प्यार बच्चों को बतमीज बना देता है इसलिए जरूरी है कि माता पिता लाड़ प्यार तो करें बच्चों के साथ लेकिन साथ ही उन्हें सही गलत बातो में अन्तर भी बताए यदि वो गलत है तो उन्हें समझाए और सही है तो शबशी अवश्य दें.

डांटना-मारना पीटना : अक्सर देखा जाता है कि बच्चों को ज्यादा मरना पीटना भी बच्चों को जिद्दी बना देता है. इसलिए बच्चों को उतना ही डांटना या मरना चाहिए जिससे वो सुधरे न कि बिगड़ जाए.

शारीरिक प्रॉब्लम : अक्सर देखा गया है कि शरीरिक प्रॉब्लम वाले बच्चे भी ज्यादा जिद्दी होते हैं. वो स्कूल, कॉलेज आदि में कई बातों की वजह से तनाव में घिर जाते हैं फिर वो जिद्दी भी करने लगते हैं.

बच्चे का मानसिक विकास तेजी से न होना : अक्सर कुछ बच्चे शरीरिक विकास में पीछे रह जाते हैं और वह अपनी इस मानसिकता को लेकर अन्य बच्चों में तुलना करते हैं. फिर वो जिद्द करने लगते है कुछ बातों को लेकर जैसा स्कूल जाने में नख़रे करना.

यह सभी कारण बच्चे को ज़िद्दी बना देते हैं, और भी कई कारण होते हैं जिस वजह से बच्चे जिद्दी हो जाते हैं.

Ziddi bachho ko kaise samjhaye/control kare

ज़िद्दी बच्चों को कैसे समझाये?

हम अपने बच्चों को कई तरह से जिद्दी बनने से बचा सकते हैं जैसे –

  1. बच्चे को मारे पिटे ना बल्कि उसे समझाए
  2. हप्ते में एक बार परीक्षा जरूर ले
  3. ग़ुस्से वाला बर्ताव न करें
  4. बच्चों के सामने विकल्प रखें
  5. नियम बनाए बच्चों के लिए
  6. घुमाने लेकर जाए
  7. हमेशा उन्हें व्यस्त रखें
  8. बच्चों के साथ प्यार से पेश आए
  9. बच्चों के साथ बच्चे बने

 

1. बच्चे को मारे पिटे ना बल्कि उन्हें समझाए :

ज्यादातर माता पिता अपने बच्चे को जब वह जिद्द करता है तो उसे मारने पीटने लग जाते हैं। जबकि उन्हे ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि बच्चो को मारने-पीटने से बच्चा बहुत ही ज्यादा ज़िद्दी हो जाता है और उनके अंदर का डर भी खत्म हो जाता है, इसलिए उसकी हर गलती पर उसे प्यार से समझाए, प्यार से समझाने पर बच्चे समझते भी है.

 

2. हप्ते में एक बार परीक्षा ले :

यदि आपका बच्चा ज्यादा जिद्दी है तो उसकी हप्ते में एक बार परीक्षा जरूर ले. उससे कहे कि यदि वो आपको कोई भी पाठ याद करके सुनाएगा तो आप उसे वह चीज लाकर देंगे. इससे आपका बच्चा पढ़ाई में पीछे नहीं रहेगा. यदि वो पढ़ाई में कमजोर है और उसे कोई चीज चाहिए तो वो आपसे जिद्द न करके या तो जिद्द छोड़ेगा या फिर पढ़ाई करेगा. इससे आपका काम भी आसान हो जाएगा. आप उसे कंट्रोल में रख पाएगे.

Ziddi bachho ko kaise samjhaye/control kare

3. गुस्से वाला बर्ताव ना करे :

अपने बच्चे के साथ गुस्से वाला बर्ताव कभी ना करे. हमेशा साधारण बर्ताव करें, और उसके सामने कभी भी गलत शब्द का उपयोग ना करे. ऐसा करने से बच्चे उन शब्दों को सीख लेते हैं और अपने दोस्तों को बोल देते हैं इसलिए ऐसे शब्द न बोले, अधिकतर पेरेंट्स इन छोटी छोटी बातों पर ध्यान नहीं देते. जिससे कि उनका बच्चा इन बातो की वजह से परेशानी में पड़ जाता है और जिद्द करने लगता है. इसलिए माता पिता को इन छोटी-छोटी बातो पर ध्यान देना चाहिए. जिससे की आपके बच्चे का बर्ताव हर किसी के प्रति अच्छा रहे.

4. बच्चो के सामने विकल्प रखे :

अगर आपका बच्चा किसी भी बात को मनवाने के लिए कुछ ज्यादा ही जिद्द करता है तो उसके सामने दो-तीन विकल्प जरूर रखे. इससे आपके बच्चे की जिद्द कम होगी और वह अपने निर्णय लेने में भी स्वतंत्रता महसूस करेगा. आगे चलकर अपने जीवन से जुड़े छोटे-बड़े फैसले भी ले पाएगा.

5. बच्चों के लिए नियम बनाए:

माता पिता को बच्चों के लिए हमेशा कुछ ऐसे नियम बनाकर रखने चाहिए जिससे कि बच्चे अनुशासन में रहें, और बच्चे किसी भी ऐसी चीजों के लिए जिद्द न करें जो आप उन्हें न दे सकें. हमेशा उन्हें समय पर खाना सोने की आदत डालें. इससे वो अनुशासन वाला बर्ताव करेंगे.

 

6. घुमाने लेकर जाए :

माता पिता को छुटियों में बच्चों को हमेशा कही न कही घूमाने लेकर जरूर जाना चाहिए, इससे बच्चों का दिल और दिमाग खुशनुमा रहता है. और आपसे प्रेम पूर्वक व्यवहार करते हैं. आपको परेशानी में परेशान नही करते हैं वो समझदार होते हैं.

7. हमेशा उन्हें व्यस्त रखें :

यदि आपका बच्चा ज्यादा शरारती है तो उसे हमेशा व्यस्त रखें. जैसे उसको कोई कॉमिक की बुक दे पढ़ने के लिए या फिर उसका पसंदीदा खेल उसके साथ खेले, तकि इधर उधर की बातों पर उसका ध्यान केंद्रित न हो. जिससे आपका बच्चा जिद्द नही करेगा.

Ziddi bachho ko kaise samjhaye/control kare

8. बच्चों के साथ प्यार से पेश आए :

बच्चों के साथ कभी भी किसी भी बात को लेकर जबरदस्ती न करें क्योंकि इससे आपका बच्चा और जिद्दी होगा. यदि आप उससे प्रेम से पेश आए तो उससे वो आपकी बातों को समझेगा और आपका बच्चा जिद्द नही करेगा.

9. बच्चों के साथ बच्चे बने :

अपने बच्चे के साथ हमेशा बच्चा बन कर रहे और उसके साथ खेले, समय बिताए, उससे उसके स्कूल के बारे में पूछे, कुछ गलती हुई तो प्यार से समझाए, जिससे कि वह आपकी हर बात को माने और आपके साथ जिद्द वाला व्यवहार न करें. इससे उसका आपके साथ दोस्तों वाला ही व्यवहार रहेगा और अपनी परेशानी को अपके साथ साझा करेगा. आप उसके विचारों को भी समझ पाएंगे और वो भी आपको समझेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *